सऊदी क्राउन प्रिंस मोहम्मद बिन सलमान ने सऊदी राजा के स्वास्थ्य को लेकर चिंताओं के बीच जापान यात्रा टाली

सऊदी क्राउन प्रिंस मोहम्मद बिन सलमान ने सऊदी राजा के स्वास्थ्य को लेकर चिंताओं के बीच जापान यात्रा टाली
Tarun Pareek
अंतर्राष्ट्रीय समाचार 0 टिप्पणि
सऊदी क्राउन प्रिंस मोहम्मद बिन सलमान ने सऊदी राजा के स्वास्थ्य को लेकर चिंताओं के बीच जापान यात्रा टाली

सऊदी क्राउन प्रिंस मोहम्मद बिन सलमान ने जापान यात्रा टाली

सऊदी अरब के क्राउन प्रिंस मोहम्मद बिन सलमान (MBS) ने अपने पिता राजा सलमान बिन अब्दुलअजीज के स्वास्थ्य को लेकर चिंताओं के कारण जापान की अपनी निर्धारित चार दिवसीय यात्रा स्थगित कर दी है। यह यात्रा सोमवार से शुरू होने वाली थी और 2019 के बाद मोहम्मद बिन सलमान की जापान की पहली यात्रा होती।

जापान के मुख्य कैबिनेट सचिव योशीमासा हयाशी ने यात्रा टालने की घोषणा की, जिन्होंने कहा कि दोनों देश बिना किसी नई तारीख के निर्धारित किए यात्रा का पुनर्निर्धारण करने के लिए काम करेंगे। उम्मीद की जा रही थी कि क्राउन प्रिंस प्रधानमंत्री फुमियो किशिदा से बातचीत करेंगे और जापानी कंपनियों के साथ जुड़ेंगे, जिसमें लिक्विड हाइड्रोजन आपूर्ति श्रृंखला को मजबूत करने के लिए एक समझौते पर हस्ताक्षर करना भी शामिल है।

राजा सलमान के स्वास्थ्य को लेकर चिंताएं

यात्रा का स्थगन ऐसे समय में हुआ है जब खबरें आ रही हैं कि राजा सलमान जेद्दा में अल सलाम पैलेस में फेफड़ों के सूजन का इलाज करा रहे हैं। मोहम्मद बिन सलमान राज्य के दैनिक मामलों का प्रबंधन करते हैं और क्षेत्रीय कूटनीति में सक्रिय रूप से शामिल रहे हैं। हाल ही में उन्होंने गाजा में संघर्ष और सऊदी अरब और अमेरिका के बीच रणनीतिक समझौतों पर चर्चा करने के लिए अमेरिकी राष्ट्रीय सुरक्षा सलाहकार जेक सुलिवन से मुलाकात की थी।

यात्रा के स्थगन से राजा सलमान के स्वास्थ्य को लेकर चल रही चिंताओं और राज्य के मामलों के प्रबंधन में मोहम्मद बिन सलमान की भूमिका के महत्व पर प्रकाश पड़ता है। यह यात्रा जापान और सऊदी अरब के बीच संबंधों को मजबूत करने के प्रयासों का हिस्सा थी, जो हरित ऊर्जा, तकनीकी प्रगति और विभिन्न क्षेत्रों में निवेश जैसे क्षेत्रों में सहयोग कर रहे हैं।

सऊदी-जापान संबंधों पर प्रभाव

सऊदी अरब और जापान के बीच मजबूत आर्थिक और व्यापारिक संबंध हैं। जापान सऊदी अरब का एक प्रमुख व्यापारिक भागीदार है और सऊदी तेल का एक बड़ा आयातक है। दोनों देशों ने हाल के वर्षों में अपने संबंधों को मजबूत करने और विविध क्षेत्रों में सहयोग बढ़ाने के प्रयास किए हैं।

मोहम्मद बिन सलमान की यात्रा इन प्रयासों को और आगे बढ़ाने और दोनों देशों के बीच रणनीतिक साझेदारी को मजबूत करने का एक अवसर होता। यात्रा के दौरान हरित ऊर्जा, तकनीकी सहयोग और निवेश समझौतों पर चर्चा होने की उम्मीद थी।

हालांकि, राजा सलमान के स्वास्थ्य को लेकर चिंताओं के कारण यात्रा के स्थगित होने से इन प्रयासों को थोड़ा धक्का लग सकता है। फिर भी, दोनों देशों ने यात्रा को पुनर्निर्धारित करने और अपनी साझेदारी को आगे बढ़ाने की प्रतिबद्धता जताई है।

सऊदी अरब में सत्ता परिवर्तन की अटकलें

राजा सलमान के स्वास्थ्य को लेकर चिंताएं सऊदी अरब में सत्ता परिवर्तन की अटकलों को भी हवा दे रही हैं। 86 वर्षीय राजा पिछले कुछ वर्षों से स्वास्थ्य समस्याओं से जूझ रहे हैं और क्राउन प्रिंस मोहम्मद बिन सलमान राज्य के मामलों में महत्वपूर्ण भूमिका निभा रहे हैं।

कई विश्लेषकों का मानना है कि राजा सलमान के स्वास्थ्य में गिरावट मोहम्मद बिन सलमान के लिए सिंहासन पर आसीन होने का रास्ता साफ कर सकती है। हालांकि, सऊदी रॉयल कोर्ट ने इस तरह की किसी भी योजना के बारे में कोई संकेत नहीं दिया है।

निष्कर्ष

मोहम्मद बिन सलमान द्वारा जापान यात्रा के स्थगन से सऊदी अरब में शीर्ष नेतृत्व के स्वास्थ्य और भविष्य को लेकर अनिश्चितता पर प्रकाश पड़ता है। हालांकि यह यात्रा स्थगित हो गई है, लेकिन दोनों देश द्विपक्षीय संबंधों को मजबूत करने और महत्वपूर्ण क्षेत्रों में सहयोग बढ़ाने के लिए प्रतिबद्ध हैं।

सऊदी अरब में सत्ता परिवर्तन की अटकलों के बीच, अंतरराष्ट्रीय समुदाय देश में होने वाले घटनाक्रमों पर करीबी नजर बनाए हुए है। सऊदी अरब मध्य पूर्व में एक महत्वपूर्ण भू-राजनीतिक शक्ति है और वहां होने वाले किसी भी बड़े बदलाव का क्षेत्र और दुनिया पर दूरगामी प्रभाव पड़ सकता है। आने वाले दिनों में सऊदी नेतृत्व की गतिविधियों पर नजर रखना दिलचस्प होगा।

ऐसी ही पोस्ट आपको पसंद आ सकती है

श्रेणियाँ