दिल्ली जल संकट: हरियाणा सरकार के खिलाफ आप सरकार ने सुप्रीम कोर्ट की शरण ली

दिल्ली जल संकट: हरियाणा सरकार के खिलाफ आप सरकार ने सुप्रीम कोर्ट की शरण ली
Tarun Pareek
समाचार 0 टिप्पणि
दिल्ली जल संकट: हरियाणा सरकार के खिलाफ आप सरकार ने सुप्रीम कोर्ट की शरण ली

दिल्ली जल संकट: आप सरकार का सुप्रीम कोर्ट का दरवाजा खटखटाना

मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल के नेतृत्व वाली आम आदमी पार्टी (आप) सरकार ने दिल्ली में पानी की कमी के मुद्दे पर उच्चतम न्यायालय का दरवाजा खटखटाया है। यह मामला दिल्ली के जल मंत्री और आप नेता आतिशी द्वारा दायर की गई याचिका पर आधारित है। इस याचिका में केंद्र सरकार, जो प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के नेतृत्व वाली भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) की सरकार है, को भी उत्तरदाता बनाया गया है। इस याचिका की सुनवाई सोमवार को अवकाशकालीन पीठ के समक्ष होगी जिसमें न्यायमूर्ति पी के मिश्रा और न्यायमूर्ति के वी विश्वनाथन शामिल होंगे।

दिल्ली में जल संकट क्यों?

दिल्ली में पानी की समस्या लंबे समय से चल रही है और यह समस्या गर्मियों में अधिक गंभीर रूप से देखी जाती है। दिल्ली की जनता को सदैव पानी की किल्लत का सामना करना पड़ता है, जिसे दूर करने के लिए आप सरकार लगातार प्रयासरत है। इन समस्याओं की जड़ में हरियाणा की जल आपूर्ति संबंधी कथित अनियमितताएँ बताई जा रही हैं। दिल्ली सरकार का कहना है कि हरियाणा सरकार ने तयशुदा हिस्से का पानी नहीं दिया है, जिससे यह संकट और गंभीर हो गया है।

आप सरकार के अनुसार, हरियाणा सरकार ने हिमाचल प्रदेश से मिलने वाले अतिरिक्त पानी को देने से इनकार कर दिया है। इस पानी की कमी ने दिल्ली की जनता की दैनिक जीवन शैली पर बुरा प्रभाव डाला है। विशेषकर गर्मी के महीने में यह समस्या और बढ़ जाती है, जब पानी की मांग अपने चरम पर होती है।

याचिका की महत्वपूर्ण बातें

याचिका में आप सरकार ने हरियाणा सरकार के खिलाफ कड़े कदम उठाने की मांग की है। इन कड़े कदमों में हिमाचल प्रदेश से अतिरिक्त पानी छुड़वाने को प्रमुख स्थान दिया गया है। आप सरकार का मानना है कि केंद्र सरकार को इस मामले में निर्णायक भूमिका निभानी चाहिए और दिल्ली को न्याय दिलाने में सहयोग देना चाहिए।

अदालत में दाखिल याचिका में दिल्ली सरकार ने कहा है कि इस संकट का तत्काल समाधान खोजा जाना चाहिए। उन्होंने सुप्रीम कोर्ट से आग्रह किया है कि वह हरियाणा सरकार को निर्देश दे कि वह हिमाचल प्रदेश से मिलने वाले अतिरिक्त पानी को दिल्ली के लिए छोड़ दे और साथ ही एक दीर्घकालिक समाधान पर भी विचार करे।

राजनीतिक विवाद की छाया

राजनीतिक विवाद की छाया

इस मुद्दे ने एक राजनीतिक रंग भी ले लिया है, जहाँ आप और भाजपा एक-दूसरे के प्रति आक्रामक हैं। आप सरकार ने हरियाणा में भाजपा सरकार पर आरोप लगाया है कि वे अपने राजनीतिक स्वार्थ के चलते जल आपूर्ति को अवरुद्ध कर रहे हैं। यह विवाद पहले भी कई बार उठा है, लेकिन इस बार यह मामला उच्चतम न्यायालय तक जा पहुंचा है।

समाधान की दिशा में कदम

जल संकट का समाधान केवल कानूनी लड़ाई तक सीमित नहीं हो सकता। इसके लिए सभी पक्षों को मिलकर ठोस कदम उठाने की जरूरत है। दिल्ली सरकार ने पानी के उचित वितरण, जलस्त्रोत संरक्षण और जल प्रबंधन को लेकर कई योजनाएँ बनाई हैं। लेकिन हरियाणा से पानी की सप्लाई बिना दिल्ली का जल संकट हल नहीं हो सकता।

यह समय है जब केंद्र सरकार को हस्तक्षेप करना चाहिए और दोनों राज्य सरकारों के बीच एक संतुलन स्थापित करना चाहिए। इसके साथ ही दीर्घावधि में जल प्रबंधन की योजनाएं बनानी चाहिए ताकि भविष्य में किसी भी राज्य को जल संकट का सामना न करना पड़े।

जल संकट का बढ़ता प्रभाव

दिल्ली की बढ़ती जनसंख्या और उससे बढ़ती जल की मांग इस संकट को और गंभीर बना रही है। आज दिल्ली एक ऐसा महानगर बन गया है जहाँ रोज़ाना लाखों लोग पानी की किल्लत का सामना कर रहे हैं। पानी की कमी का असर केवल घरेलू उपयोग तक ही सीमित नहीं है, बल्कि यह औद्योगिक और वाणिज्यिक गतिविधियों को भी प्रभावित करता है।

इस संकट के चलते दिल्ली के निवासी बोरवेल और टैंकरों पर निर्भर हो गए हैं, जो अस्थायी समाधान हैं। यह न केवल आर्थिक रूप से महंगा है, बल्कि स्थायी समाधान भी नहीं है। एक स्थायी समाधान के लिए जल संरक्षण, पुनर्चक्रण और पानी के बेहतर प्रबंधन की आवश्यकता है।

भविष्य के लिए योजनाएँ

भविष्य के लिए योजनाएँ

दिल्ली सरकार ने जल संकट को दूर करने के लिए कई दीर्घकालिक योजनाएं बनाई हैं, जिनमें जल संरक्षण, रेन वाटर हार्वेस्टिंग और पुनर्चक्रण शामिल हैं। उन्होंने आह्वान किया है कि दिल्ली के नागरिक भी इसमें योगदान दें और पानी के सही उपयोग और सरंक्षण पर ध्यान दें। इसके साथ ही, शिक्षा और जागरूकता अभियान भी चलाए जा रहे हैं ताकि लोग पानी के महत्व को समझ सकें और जल संकट को दूर करने में सहायता करें।

अंततः, यह एक महत्वपूर्ण मुद्दा है जो केवल दिल्ली या हरियाणा तक सीमित नहीं है। यह राष्ट्रीय मुद्दा है और इसे मिलकर सुलझाने की जरूरत है। हमें उम्मीद है कि सुप्रीम कोर्ट इस मामले में न्यायपूर्ण निर्णय देगा और देश के अन्य हिस्सों में भी जल संकट दूर करने के लिए नए मार्ग प्रशस्त हो सकेंगे।

ऐसी ही पोस्ट आपको पसंद आ सकती है

  • दिल्ली जल संकट: हरियाणा सरकार के खिलाफ आप सरकार ने सुप्रीम कोर्ट की शरण ली

    दिल्ली जल संकट: हरियाणा सरकार के खिलाफ आप सरकार ने सुप्रीम कोर्ट की शरण ली

    दिल्ली सरकार ने सुप्रीम कोर्ट से अपील की है कि वह हरियाणा सरकार को हिमाचल प्रदेश से अतिरिक्त पानी छोड़ने का निर्देश दे ताकि राजधानी में चल रहे जल संकट को दूर किया जा सके। दिल्ली के जल मंत्री आतिशी द्वारा दायर याचिका में केन्द्र सरकार को भी पक्षकार बनाया गया है। इस जल संकट की वजह से दिल्ली के नागरिकों का जीवन प्रभावित हो रहा है।

श्रेणियाँ